खिलाड़ी

किसी ने कहा है:- “खेल सभी खिलाड़ी खेलते है, पर जीतता वही है जो जीतने या हारने के लिये नही केवल खेलने के लिये खेलते है ।“ खिलाड़ी की सोच के आधार पर खिलाड़ी तीन प्रकार के होते है :- जो जीतने के लिये खेलते है । जो हराने के लिये खेलते है । जो […]

Read More
kaise-batau-main-tumhe

कैसे बताऊं मैं तुम्हे

कैसे बताऊं मैं तुम्हे मेरे लिए तुम कौन हो कैसे बताऊं मैं तुम्हे तुम धड़कनों का गीत हो जीवन का तुम संगीत हो तुम ज़िन्दगी तुम बन्दगी तुम रौशनी तुम ताज़गी तुम हर खुशी तुम प्यार हो तुम प्रीत हो मनमीत हो आँखों में तुम यादों में तुम साँसों में तुम आहों में तुम नींदों […]

Read More
CORONAVIRUSES

History of Coronaviruses

History of CORONAVIRUSES Coronaviruses (CoV) are a large family of viruses that cause illness ranging from the common cold to more severe diseases. Coronaviruses are zoonotic, meaning they are transmitted between animals and people.  Usually coronaviruses causing illness in humans only cause mild symptoms. Common signs of infection include respiratory symptoms, fever, cough, shortness of […]

Read More
एक प्रेम कहानी मेरी भी

‘पुनर्मिलन’ – एक प्रेम कहानी मेरी भी ( रविंदर सिंह )

दोस्तों आज जो कहानी मैं आप को सुनाने जा रहा हूँ। उसका नाम हैं :- “एक प्रेम कहानी मेरी भी।” ये कहानी रविंदर सिंह जी की हैं। ये कहानी उन्होंने कुछ भागो में बाटी है। इसमें इस एक भाग है “पुनर्मिलन।” रविंदर सिंह जी उस तारीख को याद करते हुऐ लिखते हैं :- मुझे वह तारीख […]

Read More

एक नग्म लिख रहा हूँ !

उनकी यादो को सजाके, एक नग्म लिख रहा हूँ। उनकी परछाई को, अपनी कलम की स्याही से बना रहा हूँ। वो हैं  तो नहीं हमारे, पर उनको अपना बनाने की चाह कर रहा हूँ। उससे जुड़े हर पल को, अपनी नग्म में जोड़ रहा हूँ। उनकी यादो को सजाके, एक नग्म लिख रहा हूँ।।   अल्प […]

Read More

जी हैं !

अपनी कल्पनाओं में तुझे रचकर, एक नई रचना करने का जी हैं। तुझे अपनी कल्पनाओं से वास्तविकता में लेने का जी हैं। तुझे जीवंत करके अपनी कलपना को अमर करने का जी हैं। आज फिर तुझमे खुद को जीने का जी हैं। इस अनंत संसार में अपनी कल्पनाओं  को लाकर, एक पहचान बनाने का जी हैं। […]

Read More

बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर – हरिवंशराय बच्चन

बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर, क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है । मैंने समंदर से सीखा है जीने का सलीक़ा, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना ।। ऐसा नहीं है कि मुझमें कोई ऐब नहीं है पर सच कहता हूँ मुझमे कोई फरेब नहीं है जल जाते हैं मेरे अंदाज़ से […]

Read More