kaise-batau-main-tumhe

कैसे बताऊं मैं तुम्हे

कैसे बताऊं मैं तुम्हे
मेरे लिए तुम कौन हो
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
तुम धड़कनों का गीत हो
जीवन का तुम संगीत हो
तुम ज़िन्दगी तुम बन्दगी
तुम रौशनी तुम ताज़गी
तुम हर खुशी तुम प्यार हो

तुम प्रीत हो मनमीत हो
आँखों में तुम यादों में तुम
साँसों में तुम आहों में तुम
नींदों में तुम ख़्वाबों में तुम
तुम हो मेरी हर बात में
तुम हो मेरे दिन रात में
तुम सुबह में तुम श्याम में
तुम सोच में तुम काम में
मेरे लिए पाना भी तुम
मेरे लिए खोना भी तुम
मेरे लिए हसना भी तुम
मेरे लिए रोना भी तुम
और जागना सोना भी तुम

जाऊं कहीं देखूं कहीं
तुम हो वहाँ
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
तुम बिन तो मैं कुछ भी नहीं
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
मेरे लिए तुम कौन हो
यह जो तुम्हारा रूप है
यह ज़िन्दगी की धूप है
चन्दन से तरसा है बदन
बहती है जिस में एक अगन
यह शोखियाँ यह मस्तियाँ

तुमको हवाओं से मिली
ज़ुल्फ़ें घटाओं से मिली
होंटों में कलियाँ खिल गयी
आँखों को झीले मिल गयी
चेहरे में सिमटी चाँदनी
आवाज़ में है रागिनी
शीशे के जैसा अंग है
फूलों के जैसा रंग है
नदियों के जैसी चाल है
क्या हुस्न है क्या हाल है

यह जिस्म की रंगीनियां
जैसे हज़ारों तितलियाँ
बाहों की यह गोलाइयाँ
आँचल में यह परछाइयाँ
यह नगरियाँ है ख्वाब की
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
हालत दिल े बेताब की
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
मेरे लिए तुम कौन हो
कैसे बताऊँ
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
मेरे लिए तुम धरम हो
मेरे लिए ईमान हो

तुम ही इबादत हो मेरी
तुम ही तो चाहत हो मेरी
तुम ही मेरा अरमान हो
तकता हूँ मैं हर पल जिससे
तुम ही तो वोह तस्वीर हो
तुम ही मेरी तक़दीर हो
तुम ही सितारा हो मेरा
तुम ही नज़ारा हो मेरा
युध्यान में मेरे हो तुम
जैसे मुझे घेरे हो तुम
पूरब में तुम पच्छिम में तुम
उत्तर में तुम दक्षिण में तुम
सारे मेरे जीवन में तुम

हर पल में तुम हर चिर में तुम
मेरे लिए रास्ता भी तुम
मेरे लिए मंजिल भी तुम
मेरे लिए सागर भी तुम
मेरे लिए साहिल भी तुम
मैं देखता बस तुमको हूँ
मैं सोचता बस तुमको हूँ
मैं जानता बस तुमको हूँ
मैं मानता बस तुमको हूँ
तुम ही मेरी पहचान हो
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
देवी हो तुम मेरे लिए
मेरे लिए भगवान् हो
कैसे बताऊं मैं तुम्हे
मेरे लिए तुम कौन हो
कैसे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *